किसान आंदोलन के समर्थन में ताजनगरी के किसानों ने सौपा राष्ट्रपति के नामित ज्ञापन - NUMBER ONE NEWS PORTAL

NUMBER ONE NEWS PORTAL

मेरा प्रयास, आप का विश्वास

Comments

किसान आंदोलन के समर्थन में ताजनगरी के किसानों ने सौपा राष्ट्रपति के नामित ज्ञापन

आगरा। (डीवीएनए)कृषि बिलों के विरोध एवं किसान आंदोलन के समर्थन में किसानों ने  अपर जिलाधिकारी चतुर्थ विनोद कुमार को राष्ट्रपति के नाम सम्बोधित ज्ञापन दिया। आपको बताते चलें कि दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर पूरे देश के किसान संगठित होते जा रहे हैं।आज इसी परिपेक्ष में किसान श्यामसिंह चाहर के आवास पर अपर जिलाधकारी नगर चतुर्थ ने ज्ञापन लिया। जिसमें किसानों ने तीनों कृषि बिलों को वापिस कराए जाने की माँग की हैं।और आगरा के किसानों की स्थानीय किसानों की मांगें पूरी कराये जाने की माँग रखी गई हैं।जिसमें आगरा इनर रिंग रोड लैंड पार्सल में हुए करोड़ों रुपये के घोटाले में दोषियों को के खिलाफ कार्यवाही की माँग की गई हैं। स्थानीय किसानों की दूसरी समस्या पावर ग्रिड कारपोरेशन  की हैं।जिसमें पावर ग्रिड से प्रभावित गांवों को बिजली फ़्री दिये जाने पर समझौता हुआ था लेकिन पावर ग्रिड ने किसानों की बिजली फ्री की शर्तों को आज तक पूरा नहीं किया है। इसलिए पावर ग्रिड के द्वारा किसानों  से किये गए वायदों को पूरा किया जाना चाहिए। लेकिन कई दौर की वार्ता हो चुकी हैं।लेकिन निष्कर्ष ढाक के पात  तक ही सीमित रह जाता है।किसान श्यामसिंह चाहर ने कहा है कि किसानों के ऊपर लगें फर्जी मुकदमे वापिस लिए जाय।
किसानों के ऊपर लगे फर्जी मुकदमों की रिपोर्ट जिलाधकारी ने शासन के लिए भेज दी है।लेकिन राजनीतिक दबाब के कारण मुकदमे वापिस नहीं किये जा रहे हैं।जो निहायत गलत है।अगर किसानों के ऊपर लगें फर्जी मुकदमे वापिस नहीं हुए तो किसान 2022 एवं 2024 में इन राजनीतिक लोगों को सबक सिखाने के लिए तैयार बैठा है। 
किसान नेता सोमबीर यादव ने कहा है कि सरकार आन्दोलित किसानों के कंटीले तार कीले ठोकने का काम कर रही है। औऱ किसानों के ऊपर संगीन आरोप लगाने का काम कर रही है।इसका जबाब देश का किसान आने वाले समय देगा। सरकार तेरी हकूमत हमेशा नहीं रहेंगी।  किसान सरकार बनाना भी जानता है।और सरकार उखाना भी जानता है। किसान बोना भी जानता है।और बोकर काटना भी जानता है।
आज के कार्यक्रम में दाताराम तोमर, रविन्द्र सिंह महाराज सिंह, मेहताब सिंह चाहर, दुर्गेश चाहर नागेन्द्र सिंह, लाखन सिंह बिशम्बर सिंह ,   निरोती लाल, अरुण कुमार प्रधान,बलवीर सिंह तोमर,भोला फ़ौजदार,किशनवीर चाहर,  हतेश चाहर,प्रमोद कुमार आदि किसान मौजूद रहे।
अगर सरकार किसानों पर जुल्म और अत्याचार किया तो किसानों का आंदोलन और तेज होगा।
 संवाद:- दानिश उमरी

Digital Varta News Agency

Post Top Ad

loading...