मंगला भवानी, जहां सबकी भरती है झोलियां - NUMBER ONE NEWS PORTAL

NUMBER ONE NEWS PORTAL

मेरा प्रयास, आप का विश्वास

Comments

मंगला भवानी, जहां सबकी भरती है झोलियां

गाजीपुर से बक्सर जाने वाले रास्ते पर बलिया से करीब 40 किमी पहले गंगा नदी के उत्तरी तट पर स्थित मां मंगला भवानी का प्राचीन मंदिर सदियों से श्रदृधालुओं का केंद्र बना हुआ है। यहां पर हर नवरात्र में लाखों श्रदृधालु माता के दर्शन के लिए पहुंचते हैं और मन्नतें मांगते हैं। इस मंदिर का जिक्र चीनी यात्री ह्रवेनसांग ने भी अपनी पुस्तक में किया था। जब चीनी यात्री भारत आया था उस समय यह स्थान गाजीपुर जिले में पड़ता था। 
इस मंदिर के बारे लोग बताते हैं कि एक अंग्रेज अधिकारी ने मंदिर की प्रतिमा को उखड़वाकर गंगा नदी में फेंकवा दिया। उसके  तुरंत बाद ही उस अंग्रेज अधिकारी का पुत्र बीमार होकर मर गया। उसके अस्तबल के सारे घोड़े बीमार होने लगे। अंग्रेज  अधिकारी घबड़ाकर प्रतिमा को दोबार उसी स्थान पर स्थापित करवाया तब जाकर उसको शांति मिली। उसके बाद से ही वहां पर माता के दर्शन के लिए लोगों को हुजूम उमड़ने लगा। 
यहां पर हर वर्ष नए साल पर भारी मेला लगता है। दूरदराज के लोग माता के दर्शन के लिए यहां पर पहुंचते हैं। वैसे तो अब साल भर माता के मंदिर में श्रदृधालुओं का तांता लगा रहता है। मुंडन से लेकर शादी की सगाई तक के लिए लाेग यहां पर पहुंचने लगे है। कहां जाता है कि यहां मांगने वाली हर मन्नतें मां मंगला भवानी पूरी करती हैं। 

Post Top Ad

loading...