समाज के प्रति ईमानदार लोग ही एक मजबूत सामाजिक आंदोलन खड़ा कर सकते है : लक्ष्य - NUMBER ONE NEWS PORTAL

NUMBER ONE NEWS PORTAL

मेरा प्रयास, आप का विश्वास

Comments

समाज के प्रति ईमानदार लोग ही एक मजबूत सामाजिक आंदोलन खड़ा कर सकते है : लक्ष्य

सीतापुर डीवीएनए। भारतीय समन्वय संगठन(लक्ष्य) की सीतापुर टीम ने राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस व लक्ष्य संगठन का 22 वां स्थापना दिवस सीतापुर के सिधौली के गांव केवलहार में बड़ी धूमधाम से मनाया जिसमे कई गाँवो के लोगों ने हिस्सा लिया | सर्वप्रथम राष्ट्रीय झंडा रोहण किया गया और राष्ट्रगान गाया गया, लक्ष्य कमांडरों ने तरह तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये और देश भक्ति के गीत गाए, उपस्थित लोगों का जोश देखते ही बन रहा था| लक्ष्य कमांडरों ने लक्ष्य संगठन के 22 वर्षो की यात्रा पर विस्तार से प्रकाश डाला |

समाज के प्रति ईमानदार लोग ही, एक मजबूत सामाजिक आंदोलन खड़ा कर सकते है अर्थात जो लोग समाज के दुःख दर्द को अपना दुःख दर्द समझते है और उसके लिए ईमानदारी से संघर्ष करते है ऐसे लोगों के साथ में समाज भी ईमानदारी के साथ खड़ा होता है जैसेकि बहुजन समाज में जन्मे महापुरुषों के साथ में, समाज भी कंधे से कन्धा मिलाकर उनके साथ खड़ा रहा, जैसे मान्यवर कांशीराम जी ने भी कहा कि मैं चलता गया और कारवां बनता गया यह बात हरियाणा के फरीदाबाद से आए लक्ष्य के राष्ट्रीय प्रवक्ता के पी गौतम ने मुख्य वक्ता के रूप में कही |

उन्होंने कहा कि मान्यवर कांशीराम जी ने अपनी ईमानदारी, समर्पण व कड़ी मेहनत के बलबूते बहुजन समाज के लोगों को जागरूक करके एक मजबूत सामाजिक आंदोलन खड़ा कर दिया और देश की राजनीति के मायनो को बदल कर रख दिया | मान्यवर कांशीराम जी ने घर घर गांव गांव झुग्गी झोपड़ियों में जाकर बहुजन समाज के लोगों को स्वाभिमान की परिभाषा को समझाया |

लक्ष्य के राष्ट्रीय प्रवक्ता के पी गौतम ने बताया कि लक्ष्य की स्थापना भी मान्यवर कांशीराम जी की तर्ज पर ही की गई थी और उसी तर्ज पर पिछले बाईस वर्षों से लक्ष्य के कमांडर कैडरों के माध्यम से देश भर में सामाजिक जागरूकता फैला रहें है और शोषण के खिलाफ बिगुल बजा रहें है | उन्होंने बताया कि लक्ष्य देश में बहुजन समाज की महिलाओं को लक्ष्य कमांडर के रूप में तैयार करके नेतृत्व प्रदान कर रहा है |

उन्होंने दुःख प्रकट करते हुए कहा कि लेकिन आज बहुजन समाज के नेता अपने स्वार्थ में महापुरुषों के बताये मार्ग के विपरीत चल रहे है और वे समाज के अधिकारों के लिए कोई कार्य नहीं कर रहे है तथा समाज भी अपने को अहसाय समझ रहा है जरुरत है एक ईमानदार सामाजिक आंदोलन की जो बहुजन समाज के लोगों को एकजुट कर सके और जिसके लिए लक्ष्य टीम ईमानदारी के साथ में जुटी हुई है |

Digital Varta News Agency

Post Top Ad

loading...