बुजुर्ग पूरे समाज के लिए अनुभवों का भण्डार, अतीत की रूपरेखा और सभी की श्रद्धा के पात्र होते हैं - माई यूपी न्यूज

माई यूपी न्यूज

मेरा प्रयास, आप का विश्वास

BREAKING

>

बुजुर्ग पूरे समाज के लिए अनुभवों का भण्डार, अतीत की रूपरेखा और सभी की श्रद्धा के पात्र होते हैं

आगरा (डीवीएनए) जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण आगरा के निर्देशानुसार रामलाल वृद्धाश्रम, सिकन्दरा में वरिष्ठ नागरिकों के अधिकार विषय पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, आगरा के तत्वावधान में विधिक साक्षरता/जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।
अपर सिविल जज शिवम वर्मा ने कहा कि जिस परिवार को आदमी अपनी जान से भी ज्यादा प्रेम करता है, जिसकी खुशियों के लिए वह अपना सुख-दुख भूलकर सब कुछ न्योछावर कर देता है, परन्तु उसके वृद्ध होते ही उन्हें तुच्छ समझा जाने लगता है। बात तो हम संस्कारों की करते हैं किन्तु बुजुर्गों के साथ होते अन्याय को देख कर हमारी औछी मानसिकता समाने आ ही जाती है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रभारी सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण प्रशान्त कुमार ने कहा कि बुजुर्ग पूरे समाज के लिए अनुभवों का भण्डार, अतीत की रूपरेखा और सभी की श्रद्धा के पात्र होते हैं। अगर समाज में उन्हें सही सम्मान दिया जाये और उनके गहरे अनुभवों का लाभ उठाया जाये तो वह हमारी प्रगति में अहम भूमिका निभा सकते हैं, परन्तु आज की युवा पीढ़ी बुजुर्ग का सम्मान करना भूल सी गई हैं, उन्हें अपने सिवाय और कुछ दिखाई नहीं देता। उनके अन्दर खुद का हित छिपा है और यह परिवार में बुजुर्गों को अपने ऊपर बोझ समझने लगते हैं। पूरे विश्व भर में बुजुर्गो पर होने वाले अत्याचार बुरे बर्ताव को रोकने के लिये और साथ ही साथ उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए वरिष्ठ नागरिक दिवस एवं अन्य कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। इसके अतिरिक्त माता-पिता एक वरिष्ठ नागरिकों का भरण पोषण एवं कल्याण अधिनियम, 2007 से सम्बन्धित विस्तृत जानकारी दी।
उन्होने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, आगरा द्वारा राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, लखनऊ के निर्देशों के अनुपालन में वरिष्ठ नागरिकों के लिए विधिक सहायता हेतु लीगल एड क्लीनिकों की स्थापना की गई है, जिसमें बृद्धों से संबंधित समस्याओं का निराकरण किया जाता है। इसके अतिरिक्त उन्होने बताया कि दिनाक 10 अप्रैल 2021 को जनपद न्यायालयों से लेकर तहसील न्यायालयों में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें समस्त प्रकार के शमनीय आपराधिक मामले चैक बाउंस से सम्बन्धित धारा 138 एन0आई0 एक्ट के वाद, बैंक रिकवरी वाद, मोटर दुर्घटना प्रतिकर वाद आदि का निस्तारण किया जायेगा।
संवाद , दानिश उमरी

Digital Varta News Agency

No comments:

Post a comment

Post Top Ad

loading...