वरासत दर्ज कराने में शिकायतों के निस्तारण के लिए नियन्त्रण कक्ष संचालित - माई यूपी न्यूज

माई यूपी न्यूज

मेरा प्रयास, आप का विश्वास

BREAKING

>

वरासत दर्ज कराने में शिकायतों के निस्तारण के लिए नियन्त्रण कक्ष संचालित

कासगंज। (डीवीएनए)जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह ने बताया कि राजस्व अभिलेखों को अद्यतन रखने के दृष्टिगत निर्विवाद उत्तराधिकारियों के नाम खतौनी में वरासत दर्ज कराने हेतु 15 दिसम्बर से 15 फरवरी 2021 तक दो माह का विशेष अभियान चलाये जाने के उ0प्र0शासन द्वारा निर्देश दिये गये हैं। 
इस दौरान लेखपाल, राजस्व निरीक्षक द्वारा भ्रमण कर राजस्व ग्रामों में राजस्व समिति की बैठकों का आयोजन करते हुये बैठकों में खतौनियों को पढ़ा जायेगा तथा लेखपाल द्वारा वरासत हेतु प्रार्थना पत्र प्राप्त करने के उपरांत इन्हें आनलाइन भरा जायेगा। 
तदोपरांत अविवादित उत्तराधिकारियों की वरासत को दर्ज किये जाने की कार्यवाही समयबद्ध रूप से सुनिश्चित की जायेगी। इस सम्बंध में शिकायतों के निस्तारण हेतु नियंत्रण कक्ष की स्थापना कर दी गई है। जिसका दूरभाष नम्बर 05744-272027 एवं 272028 तथा मोबाइल व्हाट्सएप नम्बर 9528972258 है। 
निर्विवाद उत्तराधिकार नियंत्रण कक्ष, जिलाधिकारी कैम्प कार्यालय में संचालित है। इसका प्रभारी रमाकान्त उपजिलाधिकारी न्यायिक कासगंज को बनाया गया है।  जिलाधिकारी ने बताया कि 30 दिसम्बर तक आवेदकों को स्वयं आॅनलाइन अथवा जनसेवा केन्द्र पर राजस्व परिषद की वेबसाइट लिंक पर भी पंजीकरण की सुविधा दी गई है। 
31 दिसम्बर से 15 जनवरी 2021 तक लेखपालों द्वारा आॅनलाइन जांच की प्रक्रिया के अनुसार कार्यवाही की जायेगी। लेखपाल द्वारा दर्ज किये गये प्रकरणों/प्राप्त आवेदन पत्रों की स्वयं स्थलीय एवं अभिलेखीय जांच के बाद विधिक उत्तराधिकारियों के नाम व विवरण के सम्बन्ध में अपनी स्पष्ट जांच आख्या पोर्टल पर अंकित की जायेगी।

16 जनवरी से 31 जनवरी तक ग्राम राजस्व समिति की खुली बैठक का आयोजन होगा तथा राजस्व निरीक्षक द्वारा जांच एवं आदेश पारित करने की प्रक्रिया के अनुसार कार्यवाही की जायेगी। खुली बैठक में आवेदक द्वारा भरे गये फार्म तथा लेखपाल की जांच का विवरण पढ़ा जायेगा। यदि कोई आपत्ति प्राप्त होती है तो उसका विवरण अपनी जांच आख्या के साथ आदेश पारित किया जायेगा।

 राजस्व निरीक्षक के नामांतरण आदेश को आर-6 में दर्ज करने के बाद खतौनी की प्रविष्टियों को भूलेख साफ्टवेयर में अध्यावधिक कराया जायेगा। 01 फरवरी से 07 फरवरी तक प्रत्येक लेखपाल, राजस्व निरीक्षक, तहसीलदार तथा एसडीएम से यह प्रमाण पत्र लिया जायेगा कि उनके क्षेत्र के राजस्व ग्रामों में निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई प्रकरण दर्ज होने से अवशेष नहीं है।

 08 फरवरी से 15 फरवरी 2021 तक प्रत्येक तहसील के राजस्व ग्रामों की वरिष्ठ अधिकारियों के माध्यम से रैण्डमली जांच कराई जायेगी। तत्पश्चात जनपद की प्रगति रिपोर्ट परिषद की वेबसाइट पर फीड कराई जायेगी।

 जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि यह शासन की प्राथमिकता का समयबद्ध व महत्वपूर्ण कार्यक्रम है। अतः इस कार्य को समयबद्धता से पूर्ण करते हुये समस्त सूचनायें समय से उपलब्ध कराई जायें तथा कार्यक्रम को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की जाये।
 किसी भी प्रकार की शिथिलता एवं विलम्ब होने पर सम्बन्धित अधिकारी, कर्मचारी जिम्मेदार होंगे। राजस्व ग्रामों में खतौनियों के पढ़े जाने तथा विरासतों को दर्ज किये जाने की कार्यवाही का समय-समय पर उच्च अधिकारियों द्वारा स्थलीय निरीक्षण किया जायेगा। जिन ग्रामों के अधिकतर काश्तकार अन्य स्थानों पर निवास करते हों, उन ग्रामों पर विशेष ध्यान दिया जाये।संवाद:- नूरुल इस्लाम 

Digital Varta News Agency

No comments:

Post a comment

Post Top Ad

loading...